Wednesday, March 22, 2023
HomeHindiगोस्वामी तुलसीदास का जीवन परिचय | Goswami Tulsidas ka Jeevan Parichay

गोस्वामी तुलसीदास का जीवन परिचय | Goswami Tulsidas ka Jeevan Parichay

तुलसीदास का जीवन परिचय: गोस्वामी तुलसीदास, हिंदी साहित्य के सबसे महान कवियों में से एक हैं। उनकी रचनाएं आध्यात्मिकता, भक्ति और आधुनिक हिंदी के लोक भावों को सुलझाती हैं। तुलसीदास ने रामायण का अनुवाद किया और इससे पूर्व रामकथा के प्रचलित रूप को समझाया।

उनकी रचनाओं में से हनुमान चालीसा, विनय पत्रिका, कृष्ण गीतावली, राम चरित मानस आदि सबसे प्रसिद्ध हैं। इनकी रचनाओं ने हिंदी भाषा के विकास में बहुत बड़ी भूमिका निभाई है। गोस्वामी तुलसीदास के जीवन और उनकी रचनाओं का अध्ययन आध्यात्मिकता और हिंदी साहित्य के प्रेमियों के लिए एक अनुभव से कम नहीं है।

तुलसीदास का जीवन परिचय
नाम:गोस्वामी तुलसीदास 
जन्म:1532 ईo 
जन्म स्थान:राजापुर गाँव 
मृत्यु:1623 ईo
मृत्यु का स्थान:काशी 
माता का नाम:हुलसी 
पिता का नाम:आत्माराम दुबे
पत्नी का नाम:रत्नावली 
शिक्षा:सन्त बाबा नरहरि दास ने भक्ति की शिक्षा वेद- वेदांग, दर्शन, इतिहास, पुराण, आदि की शिक्षा दी| 
भक्ति: राम भक्ति
प्रसिद्ध महाकाव्य:रामचरितमानस 
उपलब्धि: लोकमानस कवि 
साहित्य में योगदान:हिंदी साहित्य में कविता की सर्वतोन्मुखी उन्नति| 

गोस्वामी तुलसीदास का जीवन परिचय

लोकनायक गोस्वामी तुलसीदास न केवल भारत के कवि हैं, बल्कि पूरी मानवता और पूरे संसार के भी हैं। उनके जन्म का मूल दस्तावेज अभी तक प्राप्त नहीं हुआ है। 

माना जाता है कि उनका जन्म 1532 ई. (भाद्रपद, शुक्ल पक्ष एकादशी, विक्रम संवत् 1589) में हुआ था। तुलसीदास जी का उनके मूल स्थान से संबंध के बारे में विशेषज्ञों में कई मतभेद हैं।

इनके जन्म के सम्बन्ध में एक दोहा प्रचलित है
                                            “पंद्रह सौ चौवन बिसै, कालिंदी के तीर ।
                                            श्रावण शुक्ला सप्तमी, तुलसी धर्यो सरीर॥”

ऐसा माना जाता है कि तुलसीदास का जन्म बांदा जिले के राजापुर टोले में हुआ था। कुछ शिक्षाविदों का मानना ​​है कि एटा का सोरो मोहल्ला वहीं है जहां उनका जन्म हुआ था। सरयूपारीण शाखा के ब्राह्मण तुलसीदास जी। 

आत्माराम दुबे उनके पिता थे, और हुलसी उनकी माँ थीं। ऐसा कहा जाता है कि चूंकि उनका जन्म अभुक्त मूल नक्षत्र में हुआ था, इसलिए उनके माता-पिता ने उन्हें बचपन में ही छोड़ दिया था। उनके शुरुआती वर्षों को कई कठिनाइयों से चिह्नित किया गया था।

उनका पालन-पोषण सुप्रसिद्ध संत नरहरिदास ने किया, जिन्होंने उनमें ज्ञान और भक्ति का संचार किया। उन्होंने पंडित दीनबंधु पाठक की बेटी रत्नावली से शादी की।

वह अपनी पत्नी से बहुत प्यार करता था और उसके आकर्षण के प्रति समर्पित था। एक बार वह अपनी पत्नी के बिना बताए उसके मायके जाने के बाद तूफान का सामना करते हुए आधी रात में उसके पीछे-पीछे ससुराल चला गया।

क्या आप अपमानित महसूस नहीं करते हैं, मुझे आपके साथ दौरे पड़ते हैं, इसके बाद उनकी पत्नी ने उन्हें फटकार लगाई। पत्नी की डांट से तुलसीदास जी का संसार की वस्तुओं से वैराग्य हो गया। उनका हृदय भी श्रीराम के प्रति और अधिक समर्पित होने लगा। 

तुलसीदास जी ने कई तीर्थों की यात्रा की और राम के प्रति गहरी भक्ति विकसित की। उसने दास जैसा समर्पण दिया। 1574 ईस्वी में उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ठ महाकाव्य “रामचरितमानस” लिखा, जिसमें उन्होंने मानव जीवन के सभी उदात्त मूल्यों को समाहित करते हुए राम को मर्यादा पुरुषोत्तम में रूपांतरित किया। 1623 ई. में काशी में उनका निधन हुआ।

तुलसीदास का साहित्यिक परिचय

“तुलसीदास का जीवन परिचय” एक ऐसा विषय है जो हमारी संस्कृति के इतिहास में एक महत्वपूर्ण रूप से उपस्थित है।तुलसीदास जी एक उत्कृष्ट लोकनायक और श्री राम के समर्पित अनुयायी थे।

पूरी दुनिया में साहित्य की सर्वश्रेष्ठ रचनाओं में से एक “रामचरितमानस” है, जिसे उन्होंने लिखा था। यह एक विशिष्ट कृति है जिसमें भाषा, उद्देश्य, आख्यान, संवाद और चरित्र-चित्रण सभी का सुंदर चित्रण किया गया है।

वे इस पुस्तक और उसके द्वारा इतनी खूबसूरती से चित्रित किए गए सिद्धांतों की बदौलत युगों-युगों तक मानव समाज को आकार देना जारी रखेंगे।

उनकी इस कृति में श्रीराम के व्यक्तित्व की व्यापक चर्चा हुई है। श्री राम को अब सर्वोच्च पुरुषोत्तम के रूप में जाना जाता है क्योंकि उन्होंने मानव जीवन के सभी उच्च लक्ष्यों को शामिल किया है। तुलसीदास जी ने सगुण-निर्गुण, ज्ञान-भक्ति, शैव-वैष्णव और अनेक सम्प्रदायों के बीच सहयोग को बढ़ावा देने के लिए बहुत ही प्रभावशाली वक्तव्य दिए।

तुलसीदास की कृतियाँ (रचनाएँ) tulaseedaas kee krtiyaan (rachanaen)

“तुलसीदास का जीवन परिचय” विषय पर बात करते समय उनकी रचनाओं का विषय आ ही जाता है| प्रसिद्ध महाकवि तुलसीदास जी ने बारह खंड लिखे। उन्होंने महाकाव्य “रामचरितमानस” लिखा, जो अब तक लिखे गए सबसे महान कार्यों में से एक है।

उनकी प्रमुख रचनाएँ निम्नलिखित हैं: 

1. रामलला नहछू-

राम के यज्ञोपवीतोत्सव से पहले होने वाले नहछू के उत्सव को लक्ष्य रखते हुए, रामलला नहछू लिखे गए थे। इस संस्कार में, यज्ञोपवीत से पहले बालक के पैर के नाखून काटे जाते हैं और महावर लगाया जाता है। इस कार्य का रचनाकाल संवत 16 है। यह अवधी में लिखी गई है और एक लघु खंडकाव्य है।

2. वैराग्य संदीपनी-

इस वृत्ति में संत स्वभाव का वर्णन, संतों के लक्षणों की महिमा, सच्चे संतों के गुणों का वर्णन, वैराग्य की प्रतिपादना और शांति के लाभ का निर्देश दिया गया है। इस काव्य का संवत् 1614 में रचना हुई थी। इसकी भाषा अवधी मिश्रित ब्रजभाषा है।

3. रामाज्ञा प्रश्न –

इसमें रामायण के सभी काण्डों की कहानी के साथ शकुन-अपशकुन पर विचार किया गया है। यह लोगों को आने वाले सुखों के बारे में जानने के साथ-साथ अनिष्ट के बारे में भी जानकर उसको रोकने के लिए प्रयत्न करने की सलाह देता है। इस पुस्तक का निर्माण संवत् 1621 में हुआ था और इसकी भाषा ब्रज है।

4. जानकी मंगल-

“जानकी मंगल” का विषय सीता और राम के विवाह को वर्णन करना है। यह एक खंडकाव्य है जो संवत् 1627 में लिखा गया था। इसकी भाषा पूर्वी अवधी है।

5. रामचरित मानस

“रामचरित मानस” गोस्वामी तुलसीदास जी का सबसे प्रसिद्ध ग्रंथ है जो हिन्दुओं के धार्मिक ग्रंथों का भी महत्वपूर्ण स्थान रखता है। रामचरित मानस के माध्यम से तुलसीदास जी ने लोक कल्याणकारी भावनाओं को प्रोत्साहित किया है। इस पुस्तक का निर्माण संवत् 1631 में हुआ था और इसकी भाषा अवधी है।

6. पार्वती मंगल

“पार्वती मंगल” एक खंडकाव्य है जिसमें शिव और पार्वती का विवाह वर्णित है। इसमें पार्वती जी के जन्म से लेकर विवाह तक की कथा बताई गई है। इसकी रचना का अनुमान संवत् 1643 में हुआ था। इसकी भाषा ठेठ पूर्वी अवधी में है।

7- गीतावली

“गीतावली” एक सात काण्डों में विभक्त गीति काव्य है, जिसमें मानस की तरह सम्पूर्ण रामकथा का वर्णन होता है। इसकी रचना संभवतः 1653 में हुई थी और इसकी भाषा ब्रज है।

8. कृष्ण गीतावली –

कृष्ण गीतावली सम्पूर्ण गीतों का एक संग्रह है जो कृष्ण की लीलाओं से संबंधित है। इसमें अधिकांश पद भ्रमर गीत से संबंधित हैं। यह ग्रंथ ब्रज भाषा में लिखा गया है और इसकी रचना का समय संवत् 1658 माना जाता है।

9. बरवै रामायण-

 ‘बरवै समायण’ में भी रामकथा को सात काण्डों में विभक्त किया गया है। इसमें स्पष्ट बरवै छंदों का संग्रह है। शृंगार और भक्ति रस की प्रधानता इसमें होती है। इसकी रचना संवत् 1660 से संवत् 1661 के बीच के छंदों का संग्रह है और इसकी भाषा अवधी है।

10. दोहावली –

“दोहावली, दोहों और सोरठों का संग्रह है जो भक्ति, नीति, धर्म, आचार-विचार, रीति-नीति, ज्ञान-वैराग्य, रामनाम महात्म्य, जीव, माया, काल, जग, ज्ञान संबंधी विषयों पर आधारित दोहे हैं। इसकी रचना काल संवत् 1674 से 1660 संवत् तक मानी जाती है और इसकी भाषा ब्रज है।”

11. कवितावली –

कवितावली एक कविता संग्रह है जिसमें सात काण्ड हैं – बालकाण्ड, आयोध्याकाण्ड, अरण्यकाण्ड, किष्किन्धाकण्ड, सुंदरकाण्ड, लंकाकाण्ड और उत्तरकाण्ड। इससे सम्पूर्ण रामायण की कहानी का वर्णन मिलता है। उत्तरकाण्ड विशेष महत्व रखता है क्योंकि इसमें कलियुग में संदेश और शिक्षा दिया गया है।

12. विनय पत्रिका –

 विनय पत्रिका गोस्वामी जी की अंतिम रचनाओं में से एक मानी जाती है। इसमें उनके व्यक्तिगत अनुनय-विनय के पद हैं जो एक याचिका के रूप में लिखी गई है। तुलसीदास जी राम परिवार के सभी सदस्यों से अपनी शरण में लेने के लिए यहाँ याचना करते हैं। इस याचना के अलावा, वे विभिन्न देवी-देवताओं और विशेष रूप से हनुमान के समक्ष भी यह याचना करते हैं। यह पुस्तक संवत् के बीच में लिखी गई थी और इसकी भाषा ब्रज है।

हिंदी में तुलसीदास की साहित्यिक विरासत

गोस्वामी तुलसीदास हिंदी के सर्वश्रेष्ठ कवि हैं, उन्हें समाज के मार्गदर्शक कवि कहा जाता है। हिंदी कविता के समग्र विकास का तुलसीदास जी के माध्यम से हुआ है।

तुलसीदास जी ने मानव स्वभाव की विभिन्न रूपों का विविधतापूर्ण वर्णन किया है, जो कोई अन्य कवि नहीं कर पाया है। तुलसीदास जी को मानव जीवन के सफल रसीक कहा जा सकता है। वास्तव में, तुलसीदास जी हिंदी के अमर कवि हैं, जो हमारे बीच अनंतकाल तक रहेंगे।

तुलसीदास की भाषा-शैली

तुलसीदास जी ने अपनी काव्य रचनाएँ अवधी और ब्रज भाषाओं में लिखीं। रामचरितमानस अवधी भाषा में है, जबकि कवितावली, गीतावली, विनयपत्रिका आदि रचनाओं में ब्रजभाषा का उपयोग किया गया है।

प्रबंध शैली का उपयोग रामचरितमानस में किया गया है, विनयपत्रिका में मुक्तक शैली और दोहावली में सखी शैली का उपयोग किया गया है। भाव और कला के दृष्टिकोण से तुलसीदास जी की कविताएँ अनूठी हैं।

तुलसीदास जी ने अपनी कविताओं में सभी समकालीन कविता शैलियों का उपयोग किया है। दोहा, चौपाई, कवित्त, सवैया, पद आदि कविता शैलियों में कवि ने कविताएँ रचीं। तुलसीदास जी ने सभी आभूषणों का उपयोग करके अपनी रचनाओं को बहुत प्रभावशाली बनाया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular